Prakriti ki God or Naye Samaj ka Ehsaas

(1 customer review)

179.00

इन कविताओं को रुचिपूर्वक पढ़ने वाले पाठकों को उसी तरह का आनन्द मिलता है जैसा वो वास्तव में उन पलों को जीकर प्राप्त करते। दूसरे भाग पारिवारिक संवेदना के अंतर्गत पिता व मां पर लिखा गया है। तीसरे भाग में वर्तमान परिदृश्य को अंकित करते हुए सामाजिक विषयों की कविताएं हैं। चतुर्थ भाग में महापुरुष गौरव-गान की कविताएं हैं जो जीवन में अद्भुत प्रेरणा प्रदान करती हैं। अंतिम और पंचम भाग में जमाने से शिकायतें की गई हैं जो आधुनिक समाज में बहुत प्रासंगिक हैं।

Category:

1 review for Prakriti ki God or Naye Samaj ka Ehsaas

  1. MANISH KUMAR SAINI

    A master piece of this category.
    I really want to enjoy this journey .
    Incredible Inspiration…..👌👌🌹💐

Add a review

Your email address will not be published. Required fields are marked *

× Live Chat!